... सोलर पैनल का मेंटनेंस कब और कैसे करे ? | When And How To Maintain Your Solar Panels ? - MS3 Naveen Kumar

सोलर पैनल का मेंटनेंस कब और कैसे करे ? | When and how to maintain your solar Panels ?

Reading time <1 Min

सोलर पैनल लगाने के बाद निमियत रूप से सोलर पैनल का मेंटनेंस करना अति आवश्यक होता है ताकि हम उसका भरपूर फायदा उठा सके अर्थात सोलर पैनल अपनी पूर्ण क्षमता के अनुसार बिजली उत्पन्न कर सके।

अगर आपके घर का बिजली बिल बहुत आता है और आप अपना बिजली बिल काम करना चाहते है तो रूफ टॉप सोलर (Roof Top Solar) हीं एक मात्रा आपका विकल्प बन जाता है। हलाकि इसमें कोई दो राय नहीं है की सोलर पैनल लगवाने का शुरुवाती लगत काफी जयादा होता है।

पर मैं आपको ये बता दूँ की जो सोलर पैनल आप लगवाते हैं उसकी लाइफ 25 से 30 साल तक होती है, अर्थात आपके पास आपके निवेश पर रिटर्न पाने के लिए काफी समय होता है, इसके साथ साथ सरकार के तरफ से स्कीम (Scheme) भी आती है जिसके तहत लगभग 40 % तक की सब्सिडी सरकार के तरफ से मिल जाती है।

जैसा की मैंने बताया की सोलर पैनल की लाइफ 25 से 30 साल तक होती है, यह तभी संभव है जब आप सोलर पैनल का मेंटनेंस, उसकी साफ़ सफाई निमयत रूप से करे।

आज हम यहाँ, सोलर पैनल का मेंटनेंस अर्थात साल में कितनी बार सोलर पैनल का मेंटनेंस की आवश्यकता होती है ताकि वो लम्बे समय तक आपको अपनी पूरी क्षमता के अनुरूप बिजली उत्पन्न करे, अर्थात सोलर पैनल का मेंटनेंस कब और कैसे करे, इन सब विषयों पे आज हम बात करने वाले हैं।

सोलर पैनल का मेंटनेंस
सोलर पैनल की सफाई हर महीने करनी चाहिए

सोलर पैनल का मेंटनेंस कैसे करे ?

सोलर पैनल का मेंटनेंस कैसे करे, ये बताने से पहले मैं आपको एक बात और बताना चाहूंगा जिसे सुनकर आप काफी रहत की सांस महसूस करेंगे। सोलर पावर प्लांट मात्रा एक ऐसा पावर प्लांट है जिसमे मेंटनेंस की सबसे काम जरूरत पड़ती है, कारण की इसमें कोई मूविंग पार्ट्स (Moving Parts) नहीं होता हैं। किसी भी उपकरण को मेंटनेंस की जरूरत सबसे जयादा तभी पड़ती है जब उसमे कोई मूविंग पार्ट्स होते हैं।

सोलर पैनल ठीक से काम करे अर्थात यह अपनी पूरी क्षमता के अनुरूप बिजली उत्पन्न करे, इसके लिए सोलर पैनल का मेंटनेंस के लिए पहला और सबसे अहम् हिस्सा है साफ़ सफाई। अर्थात सोलर पैनल के ऊपर गन्दगी या धूल इकट्ठा न हो इसके लिए नियमित रूप से सोलर पैनल की साफ़ सफाई करना बहुत आयश्यक होता है ताकि सूरज की किरणे सोलर पैनल पे अपनी पूर्ण तीव्रता से और सीधी पड़े।

सोलर पैनल का मेंटनेंस के लिए दूसरा हिस्सा है, साल में एक बार पुरे सोलर प्लांट का निरिक्षण। सोलर पैनल निरिक्षण के लिए एक एक्सपर्ट से पुरे सोलर प्लांट का चेक करवाना अति आवश्यक होता है ताकि आप और एक्सपर्ट जिसे आपने बुलाया है पूरी तरह संतुस्ट हो जाये की आपका सोलर पैनल ठीक उसी तरह काम कर रहा है जैसा उसे करना चाहिए। और साथ हीं सारे केबल को भी चेक करा ले की कही कोई केबल कटा या डैमेज तो नहीं हुआ है।

सोलर पैनल का मेंटनेंस कितनी बार करनी चाहिए ?

जैसा की मैंने आपको बताया, सोलर पैनल का मेंटनेंस की काफी कम आवयश्कता पड़ती है। पर सोलर पैनल का मेंटनेंस को दो चरणों में किया जाना चाहिए।

सोलर पैनल का मेंटनेंस
सोलर पैनल का मेंटनेंस
  • वार्षिक निरीक्षण : साल में एक बार किसी एक्सपर्ट से अपना सोलर पैनल जरूर निरिक्षण करवाए जिससे आप ये सुनिश्चित कर सके की आपका सोलर पैनल ठीक उसी तरह से कम कर रहा है जैसा उसे करना चाहिए।
  • साफ़ सफाई : आम तौर पर सोलर पैनल का साफ़ सफाई महीने में एक बार जरूर करनी चाहिए पर यदि आप ऐसे जगह पे रहते है जहाँ धूल और मिटटी जयादा उड़ने के कारण सोलर पैनल ज्यादा गन्दा होती है, ऐसी स्थिति में महीने में दो बार साफ़ करना अति आवश्यक होता है।

कैसे पता करे की सोलर पैनल का मेंटनेंस की आवश्यकता है ?

सोलर पावर प्लांट की एक सबसे अच्छी बात है की सोलर प्लांट की नियमित निरिक्षण और साफ़ सफाई के आवला अधिक मेंटनेंस की आवश्यकता नहीं होती है। पर कभी कभी कुछ बातो को अगर आप धयान से देखे तो ये पता लगाना बहुत आसान हो जाता है अर्थात आपको ये संकेत मिल जाता है की अब आपके सोलर पैनल का मेंटनेंस की आवश्यकता है।

जैसे अचानक सोलर पैनल उतनी बिजली उत्पन्न नहीं कर रही है जितना उसकी क्षमता है या आम तौर पे जितनी बिजली उत्पन्न कर रही होती है। अचानक आपका बिजली बिल का बढ़ जाना, तो यह एक संकेत मिल जाता है की आपके सोलर पैनल का मेंटनेंस की आवश्यक्ता है और आपको किसी एक्सपर्ट को बुला कर अपने सोलर पावर सिस्टम की जाँच करवा कर उसका मेंटनेंस करवा लेनी चाहिए।  

अपने सोलर पैनल के वार्रन्टी के नियमों को अच्छे से समझ कर रखे

आप जो भी सोलर मॉडुल खरीदते है या मार्केट में उपलब्ध है, वे सभी वारंटी और गर्रंटी के साथ आते है, जो ये सुनिश्चित करते हैं की आपका सोलर पैनल उतने वर्षों तक अपनी पूरी क्षमता के अनुरूप बिजली उत्पन्न कर रही है या नहीं। कुछ मनुफैक्टर कंपनी 20 साल की वारंटी देते हैं और कुछ 25 साल की। आपको सोलर मॉडुल खरीदते समय ही इन सरे बातो को समझ लेना चाहिए।

कुछ मनुफैक्टर कंपनी तूफान या अन्य किसी कारण से जैसे पत्थर आदि से मॉडुल टूट जाये तो उसे भी गर्रंटी में कवर करते हैं। पर इस बात को ध्यान से समझने की जरूरत है की कोई भी मनुफैक्टर कंपनी तभी सोलर मॉडुल की वारंटी या गर्रंटी को कवर करती हैं जब सोलर पैनल का मेंटनेंस और उनकी साफ़ सफाई नियमित रूप से किया जाये।

उद्धरण के लिए यदि आप अपने सोलर पैनल का नियमित रूप से साफ़ सफाई नहीं करते हैं और उसपे गन्दगी और धूल इकट्ठा होने के कारण सोलर पैनल का बिजली उत्पन्न करने की क्षमता काम हो जाती है, ऐसी स्थिति में मनुफैक्टर कंपनी सोलर पैनल की वारंटी को कवर नहीं करती है। इसलिए आपको अपने सोलर पैनल का मेंटनेंस और साफ़ सफाई नियमित रूप से करना अति आवश्यक हो जाता है।

क्यूंकि इससे आपके सोलर पैनल का लाइफ भी काम हो जाती है और वह अपनी पूरी क्षमता के अनुरूप बिजली भी उत्पन्न नहीं कर पता है इसके साथ साथ मनुफैक्टर कंपनी इसकी वारंटी भी कवर नहीं करती है।

यही कारण है की सोलर पैनल का मेंटनेंस और उसकी साफ़ सफाई करना बहुत अनिवार्य हो जाता है।

इम्पोर्टेन्ट लिंक (Important Link)

डोपिंग (Doping) क्या है और सोलर सेल बनाने में यह कैसे काम करता है ?

वन सन वन वर्ल्ड वन ग्रिड

क्या आर्टिफीसियल लाइट से सोलर पैनल मॉडल बिजली उत्पन्न कर सकती है ?

क्या बारिश के दिनों में सोलर पैनल काम करती है ?

सोलर पैनल की दिशा क्या होनी चाहिए ?

सोलर पैनल लगवाते समय किन सुरक्षा बिंदुओं पे धयान रखना चाहिए ?

सोलर एनर्जी का प्रयोग करने के फायदे।

सोलर मॉडुल खरीदते समय किन बातों का ख्याल रखना चाहिए ?

और भी जानकारी भरे वीडियो देखने के लिए हमारे YOU TUBE चैनल MS3 Naveen Kumar को सब्सक्राइब करे।

 

हमारे साथ जुड़ने के लिए और अपना  कीमती समय देने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !!

आपका सुझाव हमारे लिए बहुत महर्वपूर्ण है, आपको ये आर्टिकल कैसा लगा कृपया कमेंट करके बताएं।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.